ट्रेन में चूतड लाल की

Train me chutad laal li:

Kamukta, antarvasna हमारे ऑफिस में एक दिन सब लोग आपस में बात करने लगे की कहीं घूमने का प्लान बनाते हैं परन्तु हमारे सामने समस्या यह थी कि हमारे पास सिर्फ दो ही दिन थे। हम लोगों कि शनिवार और रविवार की ही छुट्टी हुआ करती थी हम लोगों ने सोचा कि कहां हम लोग घूम कर आ सकते हैं तो हम लोगों ने माउंट आबू का प्लान बना लिया। अहमदाबाद से माउंट आबू ही नजदीक था तो हम लोग शुक्रवार की रात को माउंट आबू के लिए निकल पड़े हमारे साथ हमारे ऑफिस के लगभग 10 12 लोग थे और हम लोग उस टूर को बहुत एंजॉय करने वाले थे। हालांकि हमारे पास समय कम था लेकिन उसके बावजूद भी हम लोग खुश थे और हम लोग जैसे ही माउंट आबू स्टेशन पर पहुंचे तो वहां से हम लोगों ने गाड़ी की और उसके बाद हम लोग वहां से माउंट आबू के लिए निकल पड़े।

हम लोग माउंट आबू पहुंच चुके थे मैंने अपने बैग से चार्जर निकाला मेरे मोबाइल में चार्जिंग काफी कम हो चुकी थी मैंने सबसे पहले अपने मोबाइल को चार्जिंग पर लगा दिया। करीब एक घंटे बाद सब लोग तैयार होकर रिसेप्शन पर मिले और हम लोग वहां से पैदल चलते चलते झील के पास पहुंच गए और वहीं पर हम लोग बैठ गए। मेरे दोस्त ने कहा क्या तुम कुछ लोगे मैंने उसे कहा नहीं, हम लोग वहीं बैठे हुए थे और आपस में एक दूसरे से बात कर रहे थे वहां आसपास काफी लोग थे और काफी भीड़ भी थी लेकिन जब हमारे बिल्कुल आगे से कुछ बच्चे आ रहे थे तो मेरे दोस्त कहने लगे लगता है बच्चे भी घूमने के लिए आए हुए हैं। मैंने अपने दोस्त से कहा बच्चे भी घूमने के लिए आए हुए हैं और उनके साथ में कुछ टीचर भी थे तभी मेरी नजर एक टीचर पर पड़ी वही सारे बच्चों को गाइड कर रही थी। मैं सिर्फ उसे ही देखता रहा तभी मेरा दोस्त मुझे कहने लगा तुम कहां खो गए मैंने उसे कोई जवाब नहीं दिया। उसके बाद हम लोग वहां से थोड़ा और आगे पैदल चलने लगे हम जब दोबारा होटल गए तो हम लोगों ने होटल में मैनेजर से बात की। हम लोगों ने उनसे कहा कि हमे यहां पर घूमना है तो वह कहने लगे सर हम आपके लिए गाड़ी करवा देते हैं मैंने उसे रेट पूछा तो उन्होंने मुझे उसका रेट बता दिया।

हम लोग करीब 10 12 लोग थे तो हम लोगों ने दो गाड़ियां की और उसके एक घंटे बाद वहां पर गाड़ी आ चुकी थी। हम सब लोग गाड़ी में बैठ गए और हम लोग वहां से आगे निकल पड़े एक जगह गाड़ी रुकी हुई थी तभी मुझे वहां पर वही स्कूली बच्चे दिखे मैं अपनी नजर घूमने लगा तो मेरी नजर उसी पर पड़ी जिसे मैंने एक दिन पहले देखा था। मैं उससे बात करना चाहता था मैं उसकी तरफ आगे बढ़ रहा था तो तभी मेरे दोस्त ने आवाज मारी और कहा आकाश चलो हम लोगों को निकलना होगा लेकिन मैं उस लड़की से बात करना ही चाहता था। जब सार्थक ने आवाज दी तो शायद उस लड़की ने भी पलट कर देखा फिर मुझे वहां से जाना पड़ा मैं वहां से तो चला गया परंतु मेरी उससे बात करने की इच्छा हुई थी। मुझे उम्मीद नहीं थी कि वह मुझे दोबारा मिलेगी लेकिन इत्तेफाक से वह मुझे दोबारा एक रेस्टोरेंट में मिली वहां पर उसके साथ एक दो लोग और थे मेरे साथ सार्थक था मैंने सार्थक से कहा सार्थक मुझे उस लड़की से बात करनी है। वह कहने लगा यार तुम ऐसे ही किसी से कैसे बात कर सकते हो मैंने उसे कहा लेकिन मुझे तो उससे बात करनी ही है। वह बिल्कुल मेरे आगे बैठी हुई थी मैं बार-बार उसे देखे जा रहा था उसकी नजरें भी शायद मेरी तरफ़ ही थी लेकिन हम दोनों एक दूसरे से बात नहीं कर पा रहे थे मैंने सोचा मैं उससे बात कर लूं लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई। जब मैं बिल कटाने के लिए काउंटर पर पहुंचा तो वहां पर उसने मुझसे बात की मैंने उससे पूछा आप लोग कहां से आए हुए हैं तो वह कहने लगी हम लोग अहमदाबाद से आए हुए हैं मैंने उसे कहा मैं भी तो अहमदाबाद में ही रहता हूं। वह यह सब सुनकर जैसे खुश हो गई और मुझे कहने लगी अच्छा तो आप भी अहमदाबाद में ही रहते हैं मैंने उससे हाथ मिलाया और कहा मेरा नाम आकाश है उसने मुझे कहा मेरा नाम पायल है।

मैंने उसे सार्थक से मिलवाया और उसने भी मुझे अपने साथ के टीचरों से मिलाया मैंने पायल से कहा आप तो बच्चों का ग्रुप लेकर आए हैं वह कहने लगी हां हमारे साथ हमारे स्कूल के बच्चे आए हुए हैं और हम लोग कल वापस लौट जाएंगे। वह मुझसे पूछने लगी तो आप कब तक यहां रहने वाले हैं मैंने उसे कहा हम लोग भी कल ही वापस जा रहे हैं। उस वक्त मेरी सिर्फ पायल से इतनी ही बात हो पाई मैं और सार्थक वहां से चले गए। अगले दिन हम लोग रेलवे स्टेशन पर दोबारा से मिले और इत्तेफाक से हम लोगों की एक ही ट्रेन थी और एक ही बोगी में हम लोग बैठे हुए थे। हम लोग ट्रेन का इंतजार कर रहे थे लेकिन ट्रेन दो घंटे लेट चल रही थी हम लोग वहीं स्टेशन पर बैठे हुए थे पायल भी मुझसे थोड़ा सा आगे सीट पर बैठी हुई थी। उस वक्त मेरी उससे ज्यादा बात नहीं हो पाई क्योंकि उसके साथ उसके अन्य साथी टीचर भी थे और बच्चे भी थे इसलिए मैंने पायल से ज्यादा बात नहीं की और हम लोग ट्रेन का इंतजार करते रहे। गर्मी काफी हो रही थी तो मैंने सोचा पानी की बोतल ले लेता हूं मैंने सार्थक से कहा मैं अभी आता हूं। मैं वहां से आगे चल पड़ा तो मैंने पानी की बोतल ले ली और मैं वहां से पानी की बोतल लेकर वापस आया तभी सामने से ट्रेन का होरन बजा, मैंने सार्थक से पूछा क्या ट्रेन आ गई तो वह कहने लगा हां ट्रेन आ चुकी है। स्टेशन पर ट्रेन सिर्फ 5 मिनट ही रुकने वाली थी इसलिए हम लोगों ने अपना सामान अपने हाथों में ले लिया। जैसे ही ट्रेन स्टेशन पर रुकी तो हम लोगों ने जल्दी से सामान को अंदर रख दिया मैंने काफी जल्दी से सामान को ट्रेन के अंदर रखा।

सब लोग ट्रेन में चढ़ चुके थे पायल और उसके साथ में जितने भी बच्चे थे वह लोग भी ट्रेन में आ चुके थे। हम लोगों ने अपना सामान अच्छे से रख दिया और सीट पर बैठ गए पायल मुझसे तीन चार सीट छोड़ कर बैठी हुई थी। कुछ देर मैं सार्थक और अपने ऑफिस के दोस्तो के साथ बैठा रहा। बच्चे काफी शोर कर रहे थे लेकिन तभी किसी ने बच्चों को शांत रहने के लिए कहा और बच्चे शांत हो गए मुझे अब नींद आने लगी थी मैं कुछ देर के लिए आराम करने लगा। मैं करीब आधा घंटा सोया और जब मेरी आंख खुली तो मैं बाथरूम जा रहा था तभी मुझे पायल दिखी वह अकेली बैठी हुई थी मैंने सोचा पहले मैं बाथरूम से आता हूं। मैं बाथरूम से आया तो मैं पायल के बगल में बैठ गया मैंने पायल से कहा तुम यहां अकेली बैठी हुई हो वह कहने लगी हां मैं यहां पर अकेली बैठी हूं। मैं पायल के साथ बैठ गया और हम दोनों एक दूसरे से बात करने लगे मैंने पायल को अपने बारे में काफी कुछ चीजें बताइ और पायल भी मुझे अपने बारे में बहुत कुछ चीजें बता रही थी। मैंने पायल से कहा तुम्हारे बारे में जानकर मुझे अच्छा लगा। जहां हम रहते हैं वहां पर पायल की नानी का भी घर है तो इस वजह से पायल भी बचपन में वहां काफी आया करती थी और हम दोनों की बातें एक दूसरे से चल रही थी। हम दोनों आपस में बात कर रहे थे तभी मेरा हाथ पायल की जांघ पर पड़ा उसने अपनी प्यासी नजरों से मुझे देखना शुरू किया। मैं उसके स्तनों को देखता जब ट्रेन चल रही थी उसके स्तन भी हिल रहे थे वह मुझसे कहने लगी मुझे बड़ी गर्मी महसूस हो रही है।

मैंने उसे कहा मुझे भी काफी गर्मी लग रही है हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स करने के लिए तैयार थे पायल ने मुझे कहा क्या हम लोग बाथरूम में चले उसने मुझे धीरे से कहा था। वह मेरे साथ बाथरूम में चली आई जब हम दोनों वहां पर गए तो मैंने पायल के रसीले होठों को चूसना शुरू किया उसके होठों का रसपान मैंने काफी देर तक किया। मैंने जब उसके बड़े स्तनों को अपने हाथों में लिया तो मुझे उन्हें चूसने में बड़ा मजा आता मैं उसके स्तनो को काफी देर चूसता रहा मुझे उसके स्तनों का रसपान करने में बड़ा मजा आया। जब मैंने पायल को घोड़ी बनाकर उसकी चूत को मैंने काफी देर तक चाटा और उसकी योनि से गिला पदार्थ निकलने लगा था। उसने भी मेरे लंड को बहुत अच्छे से अपने मुंह में लिया वह मेरे लंड को अपने गले तक ले रही थी और उसे सकिंग कर रही थी उसे बड़ा मजा आ रहा था और मुझे भी बहुत आनंद आता। जैसे ही मैंने उसकी योनि में अपने लंड को प्रवेश करवाया तो वह चिल्ला उठी और कहने लगी आपका लंड तो बड़ा ही मोटा है मैंने उसकी चूतड़ों को पकड़ा और बड़ी तेजी से पायल की चूत मारने लगा।

मैंने उसे घोड़ी बना दिया था और घोडी बनाते ही उसे चोदना शुरु किया था, मैंने उसके साथ काफी देर तक मजे लिए। मैंने उसकी चूतडो का रंग भी लाल कर दिया था और मैं उसे बड़ी तेजी से धक्कके मारता, काफी देर तक मैंने उसके साथ संभोग का आनंद लिया। वह मुझसे अपनी चूतडो को मिलाए जा रही थी हम दोनो के अंदर इतनी ज्यादा गर्मी बढने लगी थी की उसे हम दोनों ही बर्दाश्त नहीं कर पाए। जब वह झड़ने वाली थी तो उसने अपनी योनि को टाइट कर लिया मैं उसे धक्के देता जाता। मेरा वीर्य जैसे ही पायल की चूत में गिरा तो मुझे बड़ा मजा आया। मैंने कभी उम्मीद भी नहीं की थी कि पायल के साथ में इतनी जल्दी सेक्स कर पाऊंगा लेकिन उसके साथ सेक्स करने में मुझे बड़ा मजा आया मेरे लिए एक अलग ही आनंद की अनुभूति थी। हम लोग उसके बाद भी एक दूसरे से फोन पर संपर्क में रहते हैं लेकिन मैं अपने काम की व्यस्तता के चलते उसे बहुत कम मिल पाता हूं परंतु जब भी हम लोग एक दूसरे को मिलता है तो हमेशा सेक्स का मजा लिया करते हैं।


Comments are closed.


error:

Online porn video at mobile phone


school girl ki sex kahaninandhini sexdidi ki chuchidesi sex story mobilelund ka khelमा और चाची सेकस कहाणपरीक्षा पास करने के लिए टीचर से सेक्स कहाणीbhai behan ki chudai ki kahani in hindichudai ka khel ghar meभोसडा लौंडोchudai ka storykuwari chut ki chudairead indian sex storiesdidi ke sath sex storysex story gujarati fontaunty ko pata ke chodaसुहानी रात कि सेक्सी कहानि हिन्दिbhabhi chudai hindi mechudai ki sexy storyhindi me porndada dadi sexhindi bf saxychudai chachi ki kahanifiree chut chod ke pani nichoda hindi khaniyagay story hindi me 2018XXX मराटी फीटो रगीतchudai ki kahani teacher kisapna sex photobaap se chudijija sali kahanidost ki maa ko chodagandu sexsaxy blue flimchut ka lodaकिटू कॉमिक्स हिंद xxxnaukar se chudaiदेवर ने भाभी को चोद ङाला सेकसी मारवाङीchut ki kahani hindi fonthindi sax storychut main lolabeauty parlour sexcudai khani Kajal name ke ldki ke Hindi memaa ki chudai ki kahani newchut land ki kahani in hindiindian hot sexy storyapni maa ki chut mariआदिवासी सेक्स स्टोरीantarvasna hindi menew chudai story with photokamasutra chudai kahanibaap beti ki chudai ki kahani hindi mepremika ka sil todachudai ki sexy storysex hindi story latestmousi ki mast chudaihindi sexy chudai kahaniladka or ladki ki chudaiaunty ki chudai xxxjawan ladki sexchodai ki kahnibeti aur baap ki chudai ki kahanisali jija ki chudai storymausi chudai kahanihindi ex storyfree sachi ankho dekhi chudaisaali ki chootwww bhabhi ki chudaihindi sex cowww hindisex story comXxx kahani maa ko chouda daku nechudai ki kahani hindi fontmaa beta chut chudaifree hindi sexstory