Click to Download this video!

देख ले सनम ऐसे ही हैं हम -1

Dekh le sanam aise hi hain hum-1:

desi chudai ki kahani, hindi sex stories

मेरा नाम अंजली है और मेरी उम्र 20 वर्ष है। मैं अपने भैया के साथ ही रहती हूं। मेरे पिताजी रिटायरमेंट के बाद से ही गांव में ही रहते हैं और वह खेती बाड़ी का काम करते हैं। इसलिए उन्होंने मुझे मेरे भैया के पास ही भेज दिया है और मैं उनके साथ बचपन से ही रह रही हूं। वह मुझसे काफी बड़े हैं और मुझे बहुत ज्यादा प्यार करते हैं। उन्होंने मुझे कभी भी किसी चीज की कमी नहीं होने दी। उनका ट्रांसफर अभी इस वर्ष एक नए शहर में हो गया और उनका जब ट्रांसफर हुआ तो उन्होंने मुझे कहा कि मेरा ट्रांसफर हो चुका है तो तुम्हे आगे की पढ़ाई अब नई जगह पर है करनी पड़ेगी। मैंने उन्हें कहा ठीक है भैया।

अब हम नए शहर में आ गए।  पहले तो यहां पर सामान सेट करने में ही बहुत समय लग गया। भैया ने भी कुछ दिनों के लिए छुट्टी ली थी और इस बीच हम लोग घर का सामान सेट कर रहे थे। मेरी भाभी भी बहुत अच्छी हैं और वह मुझसे बहुत ज्यादा प्यार करते हैं। उन्होंने मुझे कभी भी मेरी माँ बाप की कमी नहीं खलने दी। वह हमेशा मेरे लिए नए नए कपड़े लेकर आती हैं और मुझे जिन भी चीजों की आवश्यकता पड़ती है तो वह तुरंत ही उसे मुझे लेकर दे देते हैं। उनका एक छोटा लड़का भी है। जिसकी उम्र अभी 7 वर्ष है। हम दोनों घर पर बहुत ज्यादा मस्ती करते हैं। जिसकी वजह से घर पर रौनक बनी रहती है। अब हमें नए शहर में थोड़ा समय हो चुका था और हमने अपना सामान भी अच्छे से सेट कर लिया था। अब भैया ने भी अपने ऑफिस जाना शुरु कर दिया।

एक दिन वह ऑफिस से लौटे और वह मुझे कहने लगे कि मैंने एक कॉलेज में एडमिशन का पता करवाया है। यही पास में एक कॉलेज है तो तुम्हारा एडमिशन वहीं पर करवा देते हैं। जिससे कि तुम्हें आने जाने में भी कोई समस्या ना हो। मैंने कहा ठीक है। आप वही एडमिशन करवा दीजिए। उन्होंने मेरा उस कॉलेज में एडमिशन करवा दिया। जब शुरू में मैं उस कॉलेज में गई तो मुझे वहां का माहौल कुछ अच्छा नहीं लग रहा था लेकिन मुझे आगे की पढ़ाई भी करनी थी और मेरे पास कोई रास्ता नहीं था इस वजह से मुझे वहां पर एडमिशन लेना ही पड़ा और मैंने वहां पर एडमिशन ले लिया। पहले मैं सोच रही थी कि भैया को मना कर देती हूं कि अब मैं आगे की पढ़ाई नहीं करना चाहती हूं लेकिन फिर वह गुस्सा हो जाते। इसलिए मैंने उन्हें कुछ भी नहीं कहा और मैंने कॉलेज में एडमिशन ले लिया। मैं एक-दो दिन तक तो कॉलेज नहीं गई लेकिन जब मैं कॉलेज गई तो मैं अपनी क्लास ढूंढ रही थी। पर किसी ने भी मुझे मेरी क्लास के बारे में जानकारी नहीं दी और सब लोग बड़े ही गंदे तरीके से बात कर रहे थे। उनका बर्ताव मुझे तो बिल्कुल भी पसंद नहीं आ रहा था। क्योंकि मेरा व्यवहार बिल्कुल भी उस तरीके का नहीं है। फिर मुझे एक लड़की मिली। उसने मुझे मेरी क्लास बताई। उसके बाद मैं क्लास में चली गई। जब मैं क्लास में गई तो वह हमसे सीनियर बच्चों की क्लास थी और मैं वहीं पर बैठ गई।

मुझे काफी देर तक पता भी नहीं चला। तभी प्रोफेसर ने मुझसे पूछा कि मैंने तुम्हें इस क्लास में पहले कभी नहीं देखा। तो मैंने उन्हें बताया कि मैं कॉलेज में नई आयी हूं और किसी ने मुझे बताया कि यह हमारी क्लास है। इसलिए मैं यहां पर बैठ गई। तो सब लोग बड़ी जोर से हंसने लगे। फिर उन प्रोफेसर ने मुझे कहा कि यह तुम्हारी क्लास नहीं है। तुम्हारी क्लास इसके बगल वाली है। फिर मैं वहां से निकल पड़ी और अपनी क्लास में चली गई। जब मैं अपनी क्लास में गई तो वहां पर लड़कियां बहुत ज्यादा झगड़ रही थी। कोई किसी के बाल खींच रहा था और कोई हाथापाई भी कर रहा था। मैं यह देखकर बहुत ज्यादा डर गई। मुझे तो बिल्कुल भी कॉलेज जाने का मन नहीं था। मैं तुरंत ही घर चली गई लेकिन मैंने घर में यह बात नहीं बताई कि वहां पर बहुत ज्यादा झगड़े हो रहे थे और वह कॉलेज बिल्कुल भी अच्छा नहीं था। शाम को जब मेरे भैया ऑफिस से लौटे तो वह मुझसे पूछने लगे कि तुम्हारा कॉलेज का पहला दिन कैसा रहा। मैंने उन्हें बताया, बहुत ही अच्छा था। मेरा अब बिल्कुल भी कॉलेज जाने का मन नहीं था लेकिन मैं घर में कुछ बोल भी नहीं सकती थी। इसलिए मैंने दूसरे दिन भी कॉलेज चली गई और जब मैं कॉलेज गई तो वहां पर फिर उसी तरीके का माहौल था। मुझे उस कॉलेज में कोई भी एक लड़का ऐसा नहीं दिखा जो अच्छा हो। या किसी की मदद कर रहा हो। ऐसा कोई भी मुझे नहीं दिखा और लड़कियां तो बिल्कुल भी अच्छी नहीं थी। सब आपस में बहुत ज्यादा झगड़ा कर रहे थे। तभी मुझे एक लड़के ने आवाज लगाई और वह मेरे पास आया।

उसने मुझसे पूछा क्या तुम इस कॉलेज में नहीं आई हो। मैंने उसे बताया हां मैं इस कॉलेज में नई हूं। उसने मुझसे मेरा नाम पूछा। मैंने उसे अपना नाम बताया और अब उसने भी मुझे अपना नाम बताया। उसका नाम रौनक है। उसने मुझे बताया कि कल तुम हमारे क्लास में बैठ गई थी। तो मैं तुम्हें पीछे से देख रहा था। अब मुझे ऐसा लगा कि चलो कोई तो है कॉलेज में जो कम से कम बात कर रहा है। मैंने उसे बताया यहां पर तो कोई भी अच्छे से बात नहीं करता है। वह कहने लगा इस कॉलेज का माहौल कुछ ऐसा ही है। यहां पर बहुत सारे झगड़े होते रहते हैं और लड़कियां भी बहुत झगड़े करती हैं। उसने मुझसे पूछा कि तुम क्या यही की रहने वाली हो। मैंने उसे बताया कि मेरे भैया एक सरकारी जॉब में हैं और उनका ट्रांसफर अभी हाल ही में यहां हुआ है। अब रौनक और मेरी बहुत बातें होने लगी और मैंने उसे बताया मुझे अभी यहां के बारे में ज्यादा कुछ नहीं पता लेकिन रौनक मेरी बहुत ही मदद करता था और कॉलेज में मुझे जब भी किसी चीज की जरूरत होती तो मैं उससे ही बोलती और यदि कभी मेरा किसी के साथ झगड़ा भी हो जाता तो रौनक मेरी मदद कर दिया करता था। अब हम दोनों  बहुत ही ज्यादा नजदीक आ गए और हमारी फोन पर भी बातें होने लगी।

मैं उससे चुपके से घर से फोन किया करती थी। क्योंकि अगर मेरे भैया को पता चलता तो वह मुझसे नाराज हो जाते। इसलिए मैंने इस बारे में घर में किसी को नहीं बताया। मैं भी धीरे-धीरे उस कॉलेज के माहौल में ढलती चली गई और अब मैं भी कॉलेज में झगड़ा करने लगी। मुझे भी अगर कोई कुछ बोल देगा तो मैं भी उसे उल्टा जवाब दे दिया करती। क्योंकि मैंने देख लिया था कि यहां पर शराफत से रहकर कोई फायदा नहीं होने वाला है। पहले मैं बहुत ही शराफत से कॉलेज में रहती थी लेकिन अब धीरे-धीरे जैसे-जैसे समय बीतता गया तो मुझे भी यहां के बारे में पता चल गया था और रौनक ने भी मुझे बता दिया था कि तुम भी यहां किसी से डर कर मत रहना। अब रौनक और मेरी बहुत ज्यादा बातें होने लगी और हम कैंटीन में भी साथ में ही बैठा करते थे। कभी हम लोग कॉलेज के बगल में एक पार्क था वहां पर भी बैठ कर काफी बातें किया करते थे।

एक दिन रौनक ने मुझसे कहा कि चलो पार्क में बैठते हैं हम दोनों पार्क में ही चले गए। हम दोनों वहां बैठ कर काफी देर तक बात करते रहे और बातों बातों में रौनक में मेरे बालों को सहलाना शुरु कर दिया। जिससे कि मुझे एक अंदर से कुछ अलग ही तरह की फीलिंग आने लगी अब मैं उसके इशारे भी समझ चुकी थी। रौनक ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे पार्क के पास में खंडार था वहां अंदर ले गया। वहां मैंने अपनी चुन्नी को नीचे बिछा दिया रौनक मेरे ऊपर से लेटा गया था। उसने मेरे कपड़े खोलते हुए मेरे स्तनों को चूसना शुरू किया और मेरी कमसिन जवानी का वह मज़ा ले रहा था। उसने मेरे स्तनों को भी अच्छे से चाटा थोड़ी देर मेरी चूत को भी ऐसे ही चाटता रहा। उसने अपने लंड को हिलाते हुए मेरी योनि के अंदर डाल दिया और जैसे ही उसने अपने लंड को मेरी चूत में डाला तो मेरी सील टूट चुकी थी। मेरे चूत से खून की पिचकारी निकल पड़ी और वह ऐसे ही मुझे झटके मारे जा रहा था। मेरे अंदर से कुछ अलग ही तरीके का प्रतीत हो रहा था और हम दोनों का शरीर भी बहुत ज्यादा गर्म हो चुका था। उसका लंड मेरी चूत के अंदर बाहर होता तो मुझे बहुत मजा आता। उसी दौरान वह मेरी टाइट चूत को बर्दाश्त नहीं कर पाया और उसका भी वीर्य पतन मेरी योनि के अंदर ही हो गया। जिससे कि मेरी कमसीन चूत के मजे रौनक ने ले लिए थे और वह मुझे अक्सर उस खंडर में ले जाकर चोदता था।


Comments are closed.



Online porn video at mobile phone


badi didi ko chodahindi marathi sex kathasexy hindi story in hindi languagexxx marathi kahaniindian sex stories marathiantarvasna tvteacher ki class me chudaiantarvasna desi chudaidamad ki chudaichut or gaandchudai chitra kathadasi khanialund vs chootbhabhi ki mast jawanidesi saximaa antarvasnadesi sex biharmummy ki chudai ki kahanidelhi ki ladki ki chudaiindian sex hindi maifriend ki friend ko chodamarathi fuck kathahindi xxnepal ki chudaiseel todnasasur aur bahu ki chudai storyjija sali ki chudai ki storyजिगोलो चुड़ै सामूहिक विडीओindian sex kahani hindisavita bhabhi ki chudai ki story in hindiसेक्स कहानीwww.com.co.insuhag sexpapa aur beti ki chudai ki kahanisunita bhabhi chudaibhai bahan ki chudai kahani hindi mestory chut landलिखी,चुत14pehli suhagraat ki chudaimaa ki chudai sex kahanibhabhee ki chudaisex kahani girlsasur chudaichod mujheincest kathaschool m chudaiअब्बू ने मुझे चोदा कहानियाँboy ki chudaiamulya fuckedvidesi blue filmjanwar se chudaiwww sex hindi kahanichut dikhaokhuli chutafair chala k choda hindi storyjabran sexporn sex hindi storynew chudai comboor chudai ki storyaunty ki chudai ki kahani hindiwww kamukta sex commummy ki jabardast chudaichikni burbaap ne 10 saal ki beti ko chodarandi chudai storydamad ki chudaiindian gay kahanididi ki chut chudaichori se chudaitantrik ne ki chudaibhabhi ko kese patayeantarvasna hindi to englishsexy chut ki kahanipapa tum jab maa ki chudai karta ho to mujhe bahut jalan holi hachut or gaandwww boor ki chudai comchudai ki kahani ladkiyo ki jubaniseksy kahanimaa beta baap beti ki chudai